Friday, 21 February 2014

चीनी गौरैया ( जापानी हास्य कथा )

              चीनी गौरैया        ( जापानी हास्य कथा )




     एक बार एक व्यापारी को छ: चीनी गौरैया मिल गई । “ राजा के लिए यह बहुत बढ़िया सौगात होगी “  उसने सोचा । वह जानता था कि राजा बहुत अंधविशवासी है और हमेशा शगुन अपशगुन की चिंता मे रहता है । हो सकता है छ: चिड़िया देना वह अशुभ समझे । उसने एक जापानी गौरैया भी उसमें मिला दी ताकी उनकी संख्या सात हो जाए और सात की संख्या शुभ है ।


     राजा इतनी असाधारण सौगात से बहुत प्रसन्न हुआ । उसने चिड़ियों की बहुत प्रशंसा की और हर एक को ध्यान से देखने लगा । “ बड़ी अजीब बात है ।“ राजा ने कहा “ इनमें एक जापानी लगती है ।“ व्यापारी को समझ में नहीं आया कि क्या कहे । वह डर गया और सिर झुका लिया लेकिन जापानी गौरैया अपनी चोंच खोल कर बोल पड़ी “ महाराज, मैं दुभाषिया हूं ।“