Saturday, 1 March 2014

ऐसी भी हैं जिंदगी की अनकही कहानियां

            

     यह भाग्य की अजीब विडंबना ही तो है कि जिन लोगों ने अपने महान कार्यों पूरी दुनिया में नाम कमाया उनमें से कई को परिवार से तिरस्कार और अपमान ही मिला । दूसरे लोगों की तरह अपनी पत्नी से प्यार और समपर्ण की चाह रखने वाले ऐसे महान लेकिन दुर्भाग्यशाली लोगों का पूरा दाम्पत्य जीवन घोर कलह और टकराव की नियती बन गया ।      लेकिन ताउम्र भावनात्मक पीड़ा झेलने के बाबजूद इस दुनिया मे ऐसा कुछ किया कि दुनिया उन्हे कभी नही भुला सकती।
     ‘ वार एंड पीस ‘ जैसी महान रचना को साकार करने वाले रचनाकार लियो टाल्सटाय को कौन नही जानता । जब तक यह दुनिया है उनकी यह कालजयी कृति भी अमर रहेगी। लेकिन इस महान रचनाकार का पारिवारिक जीवन कभी सुखमय नही रहा। 1862 मे उन्होने अपने एक मित्र की बेटी सोफिया से प्रेम विवाह किया था । कुछ समय तो अच्छा गुजरा लेकिन जल्द ही हालात बिगड़ने लगे । दोनो के बीच तनाव बढ़ने लगा । तनाव इतना बढता कि कई बार टाल्सटाय घर छोड़ कर कहीं निकल जाते । लगभग 80 वर्ष की उम्र मे उन्हे आखिरी बार घर छोड़ना पड़ा ।
     तब सोफिया ने काफी विनती भी की थी ।अपने आखिरी पत्र में टाल्सटाय ने लिखा था ‘ हम दोनो का मिल सकना और उससे भी ज्यादा मेरा वापस लौटना अब नामुमकिन है।‘ आखिर ऐसा ही हुआ वह घर से बाहर बीमार पड़ गये और अपने दुखी वैवाहिक जीवन व जिंदगी से अलविदा कह दिया।
     अमरीका के स्वाधीनता संग्राम का नेतृत्व करने वाले वहां के पहले राष्ट्रपति अब्राहम लिंकन ने एक इतिहास रचा । लेकिन इतिहास रचने वाले इस महान व्यक्ति को अपने निजी जीवन मे वह खुशियां कभी नसीब नही हुईं जिनकी उन्हें चाहत थी । 1842 में मेरी टोडसे से उनका विवाह हुआ । बड़े अरमानों से विवाह सूत्र मे बंधने वाले इस इतिहास पुरूष के भाग्य मे तो कुछ और ही लिखा था ।चंद दिनों की खुशियों के बाद कटुता और तकरारों का जो सिलसिला शुरू हुआ वह अंत तक चलता रहा । अपने रूखे स्वभाव के कारण मेरी उनकी अच्छी जीवन संगिनी कभी नही बन सकी ।यही नही, आगे चल कर उनके जीवन में आने वाली प्रेयसी भी उनसे वफा न कर सकीं । और वह ताउम्र प्यार को तरसते रहे ।
     चारल्स डिकिन्स यानी ‘ओलिवर टिवस्ट’  ‘ए टेल आफ टू सिटीज’ जैसी अमर कृतियों के रचनाकार । स्काटिस खूबसूरत लड़की केटी से प्रेम विवाह कर जीवन में खुशियों का रंग भर देने की चाहत रखने वाले डिकिन्स को फूलों की जगह कांटे मिले । दैहिक सौंदर्य मे लाजवाब केटी डिकिन्स का मन कभी नही जीत पायी ।लेखन कर्म को व्यर्थ का काम समझने वाली केटी से उन्हे हमेशा मानसिक पीड़ा ही मिली ।लेकिन लंदन में जब वह साथ रहते थे, केटी की बहन मेरी डिकिन्स की तरफ आकर्षित हुई और दोनो एक दूसरे को प्यार करने लगे । लेकिन एक रात मेरी की अचानक मृत्यु हो गई। इस हादसे से डिकिन्स को भावनात्मक रूप से काफी आघात लगा। उन्होने उसके शव से हाथ की अंगूठी निकाल कर पहन ली और अपनी मृत्यु तक उसे पहने रहे ।
     सिनेमा के पर्दे पर अपने अभिनय से पूरी दुनिया को हंसाने वाले चार्ली चैप्लीन को कौन नही जानता । सभी को हंसा हंसा कर लोट पोट कर देने वाले इस महान कलाकार की स्वयं की जिंदगी बेहद तनाव भरी रही ।

   एक भोज मे चार्ली की मुलाकात सोलह वर्षीय अभिनेत्री मिल्डिरेड से हो गयी। आंखे चार हुई और वे दाम्पत्य सूत्र मे बंध गए । एक पुत्र का जन्म हुआ जो तीन दिन बाद ही चला गया। आपसी समझ के अभाव में इनके बीच की दूरियां बढती गयीं । मिल्डिरेड कभी चार्ली को न समझ सकी ।अंतत: 1920 मे तलाक द्रारा इस अनचाहे रिश्ते का अंत हुआ ।1924 मे चार्ली ने फिर एक अभिनेत्री लिटा ग्रेसी से विवाह किया। लेकिन ज्यादा दिन निभ न सकी ।बाद मे दोनो का तलाक हो गया ।लेकिन भावनात्मक पीड़ाओं का अंत यहीं नही हुआ ।अभी बहुत कुछ महसूस करना बाकी था ।
     चार्ली ने तीसरा विवाह 54 वर्ष की उम्र मे किया । लेकिन अंतत: तलाक ही इस संबध की नियती बना । चौथी शादी होने तक चार्ली पूरी दुनिया में एक महान हास्य अभिनेता के रूप में चर्चित हो गये थे और साथ में बूढ़े भी ।
     इतिहास के पन्नों में ऐसी न जाने कितनी मार्मिक कहानियां दफन हैं जहां शोहरत की बुलंदियों को छूने वाले ताउम्र प्यार को तरसते रहे लेकिन वह उनसे हमेशा दो कदम दूर ही रहा । और अपनी प्यार की चाहत को लेकर इस दुनिया को ही अलविदा कह दिया ।
संपर्क :
एल.एस.बिष्ट
11/508 , इंदिरा नगर
लखनऊ
मो. 9450911026