Tuesday, 24 February 2015

सवालों के घेरे में सरकारी कार्य संस्कृति


 ( एल.एस. बिष्ट ) - देशभक्ति की चाश्नी में डूबी हिंदी फिल्मों की दुनिया से बाहर निकल कर देखें तो देश की एक अलग ही तस्वीर नजर आती है । विकास की सीढीयां चढता यह देश भ्रष्टाचार के मामले में भी कम उन्नति नही कर रहा और इसीलिए भ्र्ष्ट देशों की सूची मे हम काफी ऊपर पायदान में खडे हैं ।
अभी हाल में पैर पसारता यह भ्र्ष्टाचार फिर चर्चा व चिंता का विषय बना । यकायक यह पता चला कि कुछ मंत्रालयों से गोपनीय और महत्वपूर्ण जानकारियां बाहर भेजी जाती हैं । इस सबंध मे दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा ने पेट्रोलियम एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय मे एक रैकेट का पर्दाफाश किया है । अभी तक मंत्रालय के कुछ कर्मचारियों सहित 12 लोगों को गिरफ्तार किया जा चुका है । इन लोगों ने गोपनीय दस्तावेज 5-6 बडी कंपनियों को बेचे थे । गिरफ्तार लोगों मे इन कंपनियों के कुछ बडे अधिकारी भी शामिल हैं ।
अब धीरे धीरे यह भी पता चल रहा है कि इस काम को कुछ अन्य मंत्रालयों मे भी किया जाता रहा है । इसमे कोयला व उर्जा जैसे महत्वपूर्ण मंत्रालय शामिल हैं । एक पत्रकार शांतनु सैकिया भी कानून की गिरफ्त मे हैं । इन्हें इस साजिश की एक महत्वपूर्ण कडी माना जा रहा है ।
देखा जाए तो यह कोई ऐसा धमाका नही है जो पहली बार हुआ हो। इस तरह की बातें जब तब चर्चा मे आती रहीं हैं । लेकिन जैसा अक्सर होता है कुछ समय बाद सबकुछ भुला दिया जाता है । 2012 यू.पी.ए सरकार मे रक्षा मंत्री रहे ए.के.एंटनी के कार्यालय मे जासूसी किये जाने की बातें चर्चा में आई थीं । इसके बाद 2013 मे वित्त मंत्री अरूण जेटली के फोन टेपिंग का मामला भी गर्म हुआ था लेकिन समय के साथ सब भुला दिया गया । पिछ्ले वर्ष ही जुलाई मे नितिन गडकरी के घर जासूसी के कुछ उपकरण मिलने की खबर ने सनसनी पैदा की थी । अगर थोडा पीछे देखें तो मुरली देवडा के कार्यकाल मे भी पेट्रोलियम मंत्रालय मे सूचनाएं लीक किए जाने की बात कही गई थी ।
दर-असल इस तरह की बातों को कभी गंभीरता से लिया ही नही गया । अब जब कि देश आर्थिक क्षेत्र के एक नये युग मे प्रवेश कर रहा है इन चीजों का महत्व समझ मे आने लगा है। जिस तरह से यह काम सुनियोजित तरीके से किया जाता रहा है, इससे आभास होता है कि इसकी जडें बहुत पुरानी व गहरी हैं ।
यहां गौरतलब यह है कि देश के सभी नीतिगत फैसले मंत्रालयों मे ही लिए जाते हैं और इन फैसलों से कई प्रकार के लोगों और संस्थाओं का हित जुडा होता है । अगर लिए जा रहे फैसलों की जानकारी समय रहते प्राप्त हो जाए तो इनसे बडा लाभ लिया जा सकता है या फिर संभावित नुकसान से बचा जा सकता है । देश के निजी क्षेत्रों की कंपनियों के हित इन फैसलों से सीधे जुडे होते हैं । इन्हें प्राप्त करने का यह हर संभव प्रयास भी करते हैं । यह पर्दाफाश इस प्रयास की ही एक कडी है ।
सरकारी कार्यालयों व मंत्रालयों के अंदर से इस प्रकार की महत्वपूर्ण सूचनाएं बडे ही नियोजित तरीके से प्राप्त की जाती रही हैं । इसके लिए कंसल्टेंसी एजेंसी बना कर और महत्वपूर्ण सूचनाएं प्राप्त कर कंपनियों को उपलब्ध किया जाता रहा है । यह सूचनाएं मंत्रालय के छोटे कर्मचारियों को पैसे देकर प्राप्त की जाती हैं । यह लोग पैसे के लालच मे पत्रों व टिप्पणियों की फोटोकापी करके इन्हें उपलब्ध कराते हैं । फिर इन्हें बडी कंपनियों को भारी रकम लेकर बेच दिया जाता है ।
गौरतलब यह भी है कि अगर मंत्रालय या फिर किसी भी सरकारी कार्यालय की कार्यशैली को देखें तो यह काम मुश्किल भी नही लगता । चूंकि अभी तक सभी काम फाइलों के माध्यम से होता रहा है इसलिए दस्तावेज को पढना व उसकी कापी करना मुश्किल काम भी नही । फैसले संबधित टिप्पणियां फाइल की नोटशीट मे ही दर्ज की जाती हैं इसलिए ऐसे मे छोटे कर्मचारियों की मिलीभगत से इन्हें आसानी से प्राप्त किया जा सकता है ।
इस मामले मे कानूनी कार्यवाही सरकारी गोपनीय एक्ट ( आफिसियल सीक्रेट एक्ट ) के तहत ही होनी है जिसमें काफी सख्त प्राविधान हैं । यहां तक कि इस एक्ट मे मुकदमा उस स्थिति मे भी चलाया जा सकता है जब किसी व्यक्ति विशेष की नियत देश के हितों को नुकसान पहुंचाने की न भी रही हो । इस एक्ट के तहत मजिस्ट्रेट को विशेष अधिकार प्राप्त हैं । इसमें यह भी प्रावधान है कि अगर कोई कंपनी दोषी पाई जाती है तो कंपनी के प्रबंध तंत्र से जुडे प्रत्येक व्यक्ति यहां तक कि बोर्ड आफ डाइरेक्टरस को भी सजा हो सकती है । इस एक्ट के तहत 3 साल से 14 साल तक की सजा का प्राविधान है ।
लेकिन ऊपरी तौर पर यह कानून जितना सख्त नजर आता है उतना ही इसमे विरोधाभास भी है । सूचना के अधिकार कानून 2005 से इसका सीधा टकराव है । सूचना अधिकार् के तहत् कई सरकारी सूचनाएं सार्वजनिक की जानी चाहिए लेकिन यह एक्ट इन्हें 'गोपनीय' मानता है । जून 2002 मे पत्रकार इफ्तकार गिलानी को इसी आफिसियल सीक्रेट एक्ट के तहत गिरफ्तार किया गया था । तब इस पर बडी चर्चा हुई थी । लेकिन अंतत: इस मामले मे परस्पर विरोधाभासी राय मिलने के कारण सरकार को मामला वापस लेना पडा था । सेना की रिपोर्ट मे उन सूचनाओं को ' गोपनीय ' नही माना गया । इस सबंध मे दिल्ली उच्च न्यायालय ने यह भी कहा कि सिर्फ ' सीक्रेट ' का लेबल लगा देने से पत्रकार को इसका दोषी करार नही दिया जा सकता ।
बहरहाल सरकारी गोपनीय कानून मे कई किंतु परंतु हैं । यह भी सच है कि कई बार इस कानून की आड मे आम नागरिकों को जरूरी सूचनाएं भी उपलब्ध नही कराई जाती हैं । यहां यह भी गौरतलब है कि सरकारी कार्यालयों मे भ्र्ष्टाचार रोकने के लिए सर्तकता आयोग भी है जिसका मुख्य कार्य भ्रष्टाचार पर रोक लगाना है । इसके लिए प्र्त्येक सरकारी कार्यालय मे एक सर्तकता अधिकारी की नियुक्ति भी की जाती है लेकिन यह एक औपचारिक्ता मात्र बन कर रह गया है । इसका लाभ भी भ्र्ष्ट कर्मचारियों व अधिकारियों को मिलता है ।

बहरहाल, अब जब कि बात सतह मे आ गई है इसे गंभीरता से लिया जाना चाहिए । मामला पूरी तरह से दस्तावेजों की चोरी, जासूसी और बडे व्यापारिक घरानों को लाभ पहुंचाने का है । इससे तो देश की बजट प्रकिया भी प्रभावित होने की शंका पैदा हो गई है जो एक गंभीर बात है । इसलिए जरूरी है कि इस मामले की तह पर जाकर दोषी लोगों को सख्त सजा दी जाए । इसके साथ ही सरकारी कार्यालयों की कार्य शैली को बदला जाए तथा काम व गोपनीयता के प्रति इन्हें जिम्मेदार बनाया जाए । परम्परागत फाइल व्यवस्था के स्थान पर कम्प्यूटर कार्य संस्कृति को विकसित करके उसे भी तकनीकी तौर पर सुरक्षित बनाया जाना जरूरी है जिससे कोई भी व्यक्ति वहां रहने का अनुचित लाभ न उठा सके ।  

Friday, 13 February 2015

यादें- वैलेंटाइन डे / लगता है तुम यहीं कहीं हो

                                                           
( एल.एस. बिष्ट ) -लगता है ऐसा कि तुम यहीं कहीं हो । बिल्कुल चंचल हिरणी की तरह, कुंलाचे मारती हुई । छोटी छोटी बातों मे तुम्हारा रूठना और फिर कुछ दिन के लिए मुंह फुलाना ।समय की तेजधारा मे जिंदगी के रंग चाहे कितने ही चटक या भदेस हो गये हों, तुम्हारी यादों का काफिला आज भी जिंदा है ।
हमारे उस प्यारे से स्कूल की वह लंबी लंबी सैनिकों की बैरकें, शहर की चकाचौंध और शोर-शराबे से दूर, आज भी वहीं खडी हैं । लेकिन अब शायद उसकी दीवारों का इतिहास बदल गया है । बस एक दिन यूं ही जाना हुआ या यूं कहूं कि धुंधलाती तस्वीरों के मिट जाने से पहले उस किशोरवय उम्र के खूबसूरत, मासूम दिनों को जी भर महसूस कर लेने की जिद यह मन कर बैठा ।
कितना बदल गया.......आंखों ने सहज विश्वास नहीं किया । जहां के चप्पे चप्पे पर उम्र की अनगिनत निशानियां थीं उन्हीं का पता राहगीरों से पूछ्ना पडा । लेकिन अच्छा लगा यह देख कर कि आम का वह पेड जिसके नीचे अक्सर तुम मिल जाया करती थी और जिसके खट्टे आम तुम्हें कभी पसंद नही आए, बहुत बडा होकर एक वट वृक्ष की तरह आज भी खडा है । लेकिन चार दशकों के बीते कालखंड् ने उसे भी वैसा नही रहने दिया । अब वह बहुत बूढा , जर्जर और असहाय सा मानो बस अपनी जिंदगी के दिन गिन रहा हो । न जाने हमारे कितने पलों का गवाह रहा है वह । लेकिन उसे इस तरह से बुढाते देखना बिल्कुल अच्छा नही लगा...पता नही क्यों ।
प्रिसिपल सर के कमरे के सामने वाला वह पीपल का पेड अब कहीं नही दिखा और न ही गूलर का वह पेड जिसके मीठे गुलरों को खाने के लिए क्लास के साथियों मे एक होड सी लगी रहती थी । हमारी यादों के ये निशां शायद जमींदोज हो गये ।
वह बडा सा फुटबाल मैदान जो कभी लंच टाइम मे भर जाया करता था और खाने पर झपटती वह चीलें, जिनसे खाना बचाना भी एक जंग जीतने के बराबर हुआ करता था अब शायद दुनिया मे नही होंगी । लेकिन उनका वह झपटना और एक दिन तुम्हारे हाथों पर उनके तेज पंजों का लग जाना, आज भी याद है.....शायद तुम्हे भी ।
रफ्ता रफ्ता गुजरती जिंदगी मे बीते हुए पलों के अक्स अब धुंधलाने लगे हैं । लेकिन फिर भी ऐसा कुछ है कि समय की तेज धारा उन्हें कभी न मिटा सकेगी । तुम्हारा वह चिढाना और घर के नाम से पुकारना....लगता है कल की ही बात है ।

बहुत कुछ है उन यादों के समंदर में । लेकिन कभी सोचता हूं कि जिंदगी मे ऐसा होता तो कैसा होता.....तुम होती तो .....। लेकिन ऐसा हो न सका । तुम कहां हो, पता नहीं दुनिया की इस भीड में.......शायद कभी न तलाश सकूंगा तुम्हे...फिर भी तुम जहां भी हो...हैप्पी वैलेंटाइन डे , नीलू । 

Wednesday, 11 February 2015

राजनीतिक फैसले जिन्होने हार की कहानी लिखी




( एल.एस.बिष्ट )  - भारत विजय के लिए निकला भाजपा का यह चमत्कारिक रथ आखिर रूक ही गया । वैसे तो राजनीति मे जीत और हार सिक्के के दो पहलू हैं लेकिन दिल्ली चुनाव की यह हार अपने आप मे कुछ अलग जरूर है । नौ माह पहले प्रचंड बहुमत से विजयी भाजपा इस कदर चुनावी मैदान मे चारों खाने चित्त गिरेगी, किसी ने सोचा भी नही था । लेकिन ऐसा हुआ और दिल्ली इसकी जीती जागती गवाह बनी । गौरतलब यह है कि इस ऐतिहासिक चुनावी जीत का सेहरा उस इंसान के सर पर बंधा जिसे दो राष्ट्रीय दलों के मजबूत प्रचार तंत्र ने हाशिए पर डाल दिया था ।
सपनों सी यह विजयी कहानी न सिर्फ अदभुद है बल्कि चमत्कारिक भी । कौन कह सकता था कि सिर्फ नौ माह पहले आम चुनाव मे परास्त , पस्त एक नव नवेली राजनीतिक पार्टी इस कदर दिल्ली का मन मोह लेगी और चुनावी इतिहास मे एक ऐसी जीत दर्ज करेगी जिसे शायद भुला पाना मुश्किल होगा । बडे बडे राजनीतिक पंडित अपनी पोथियां बांचते रहे लेकिन दिल्ली के दिल मे क्या था, समझने मे नाकाम रहे । ऐसा इंसान जिसे भगोडा, नौटंकीबाज, नक्सली, देशद्रोही और न जाने कितने विशेषणों से विभुषित किया गया जीत की ऐसी कहानी लिख सकेगा, किसी को उम्मीद न थी । लेकिन उस इंसान ने अकल्पनीय इतिहास लिखा और लोगों ने उस इतिहास को बनते देखा ।
चुनावी विजय की यह कहानी भाजपा और कांग्रेस दोनो के लिए एक हादसे से कम नहीं । लेकिन यह आज का सच है कि दिल्ली ने दोनो राष्ट्रीय दलों को सिरे से नकार दिया । वैसे कांग्रेस के डूबते जहाज के लिए यह हार ताबूद मे एक और कील साबित हुई लेकिन भाजपा व मोदी सरकार के लिए इस हार के मायने कुछ अलग हैं।
उत्साह और उम्मीदों से भरी भाजपा के लिए यह चुनावी जंग एक ऐसा घाव दे गई जिस पर अभी काफी समय तक सोचा जाता रहेगा । लेकिन सतही तौर पर जो दिखाई दे रहा है वह भी कम दुर्भाग्यपूर्ण नहीं । आश्चर्य होना स्वाभाविक ही है कि राजनैतिक कौशल के लिए जाने जानी वाली इस राष्ट्रीय दल के बडे बडे पंडित चुनावी गणित मे आखिर कैसे फेल हो गये । केजरीवाल के त्याग पत्र से उपजे अनुकूल राजनैतिक माहौल को भांपने मे चूक कैसे हो गई । दिल्ली मे केजरीवाल के सत्ता पलायन से उपजे आक्रोश का लाभ भाजपा के पंडितों को क्यों नही दिखाई दिया और जब चुनावी रण्भेरी बजाई तब तक केजरीवाल दिल्लीवासियों के आहत दिल पर मलहम लगा चुके थे । जमीन मे पडे यौध्दा को उठने के लिए इतना समय प्रर्याप्त था । गलत समय का चुनाव करना अंतत: ऐतिहासिक हार का कारण बना ।
यही नही, मोदी और अमित साह के लिऐ गये फैसले घातक सिध्द हुए । जो किरन बेदी कल तक पूरी राजनीतिक संस्कृति और नेताओं की खिल्ली उडा रही थी उसे न सिर्फ दल मे शामिल किया बल्कि मुख्यमंत्री पद के लिए घोषित भी कर दिया

और वह भी दिल्ली ईकाइ के नेताओं के सम्मान और प्रतिष्ठा की कीमत पर । पैराशूट से उतारी गई किरन बेदी को भाजपा के जमीनी कार्यकर्ता स्वीकार करने को कतई तैयार नही थे लेकिन यह फैसला था मोदी और अमित साह का , जो घातक सिध्द हुआ । हंटरवाली छवि का भी नुक्सान उठाना पडा । किरन बेदी के स्थान पर किसी और का नाम संभवत: इतनी बडी हार को न्योता न देता । बात यही तक नही रही । शाजिया इल्मी और बिन्नी जैसे लोगों को दल मे शामिल कर एक और गलती कर डाली । यानी दूसरे दलों के अवसरवादी लोगों के लिए दल का दरवाजा खोलना भी हार का कारण बना ।
मोदी जी के राजनैतिक कौशल मे भी कुछ चूकें रही हैं । गणतंत्र दिवस के अवसर पर दिल्ली के पूर्व मुख्यमंत्री को न बुलाना भी दिल्लीवासियों को अच्छा नही लगा । यह एक ऐसा देश है जहां खुशी के अवसर पर दुश्मन को भी न्योता देने की परंपरा रही है । इससे लोगों मे केजरीवाल के प्रति सहानुभूति का जागना स्वाभाविक ही था । इसके अतिरिक्त केजरीवाल के लिए स्वयं मोदी जी ने जिन शब्दों का इस्तेमाल किया वह भी दिल्ली के लोगों को पसंद नही आया । यानी नकारात्मक प्रचार ने रही सही कसर पूरी कर दी । यह अतिवादी प्रतिक्रियाएं दर-असल ' केजरी फोबिया ' का परिणाम थीं जिससे बचा जाना चाहिए था ।
मुस्लिम वोटों का एकजुट होना और लडाई मे कांग्रेस का बेहद कमजोर रह्ना भी आप पार्टी के पक्ष मे ही गया । दर-असल भाजपा के राजनैतिक पंडित इसे त्रिकोणीय या चतुष्कोरणीय लडाई न बना सके । यहीं पर कौशल की जरूरत थी जिसमे चूक हुई और सीधी लडाई मे हार का मुंह देखना पडा ।

बहरहाल लडाई खत्म हो चुकी है और दिल्ली ने दिल खोल कर आप पार्टी तथा केजरीवाल जी को अपना समर्थन दिया है । इस दल की अलग राजनैतिक संस्कृर्ति की दिशा और दशा क्या होगी , यह तो समय के गर्भ मे है लेकिन इतना अवश्य है कि अब देश मे आम आदमी की राजनैतिक सोच बदलने लगी है और वह वादों को हकीकत मे बदलता देखना चाहता है । दिल्ली वालों से किए गये वादे और उन्हें दिखाई गई सपनों की दुनिया हकीकत मे कितना तब्दील हो पाती है इस पर ही केजरीवाल और उनकी आप पार्टी का भविष्य निर्भर है । लेकिन भाजपा और मोदी जी को भी फिर से चिंतन करने की जरूरत है । अगर इस चुनाव् की हार से कुछ न सीखा गया तो निकट भविष्य मे राज्यों मे होने वाले चुनाव राजनैतिक हादसों की कहानी लिखेंगे ।  

Tuesday, 3 February 2015

क्रिकेट महाकुंभ में भारत की चुनौती




(एल. एस. बिष्ट ) - क्रिकेट का महाकुंभ दस्तक दे रहा है लेकिन इस बार कोई खास उत्तेजना और उत्साह दिखाई नही दे रहा । इसका कारण दिल्ली का हाई प्रोफाइल चुनाव भी हो सकता है और भारतीय क्रिकेट टीम की आष्ट्रेलिया मे हुई दुर्गत से उपजी निराशा भी । बहुत संभव है संतुष्टि का भाव भी एक कारण हो कि 2011 का वर्ल्ड कप तो जीत ही चुके हैं । लेकिन इतना अवश्य है कि 14 फरबरी से हो रहे इस क्रिकेट कुंभ को लेकर वह बात दिखाई नही दे रही ।
तमाम संभावित कारणों मे से संभवत: सबसे बडा कारण इस बार भारत की दावेदारी का कमजोर दिखाई देना भी हो सकता है ।वैसे तो क्रिकेट बोर्ड और कुछ भूतपूर्व खिलाडी बडे बडे दावे कर रहे हैं लेकिन आम भारतीय क्रिकेट प्रेमी इन दावों मे जरा भी सच्चाई नही देख पा रहा । सट्टा बाजार के संकेत भी भारत के पक्ष मे नही दिखाई दे रहे हैं । यानी कुल मिला कर एक निराशा का माहौल है ।
क्रिकेट के इस सबसे बडे उत्सव मे भारतीय संभावनाओं को तलाशने का प्रयास करें तो उम्मीदों का कोई आधार नजर नही आ रहा सिवाय इसके कि भारत इस खेल का गत विजेता है । धोनी कोई चमत्कार दिखा सकेंगे इसकी संभावना भी कम ही दिखाई देती है । इसका एक बडा कारण है कि 2011 के वर्ल्ड कप मे मिली जीत के कारणों को सही तरीके से समझा ही नही गया । धोनी की कप्तानी और युवा चेहरों को जिस तरह से महिमा मंडित किया गया उसने सच को कहीं पीछे धकेल दिया था ।
देखा जाए तो पिछ्ले वर्ल्ड कप की जीत का एक बडा कारण वर्ल्ड कप का भारतीय उपमहादीप मे होना था । फाइनल भी मुबंई के वानखेडे स्टेडियम मे खेला गया था और इसका लाभ भारतीय टीम को मिला । वैसे कमोवेश  इस महादीप मे होने का भरपूर लाभ इस क्षेत्र की सभी टीमों को मिला था । यही कारण  रहा  कि अंतिम चार मे  सिर्फ न्यूजीलेंड को छोड कर बाकी तीन टीमें इस महादीप की ही रहीं ।
यहां की पिचें स्पिन गेंदबाजी के अनुकूल रही हैं । जिसमें भारत का पक्ष हमेशा से मजबूत रहा है । दूसरी तरफ क्रिकेट की दूसरी दिग्गज टीमों की ताकत हमेशा से उनकी तेज गेंदबाजी रही है और यहां की बेजान धीमी पिचों पर उनके तेज गेंदबाज प्रभावहीन साबित हुए । अपनी जमीन का भरपूर लाभ भारतीय टीम को मिला जिसने कप तक पहुंचने का रास्ता आसान कर दिया और अंतत: भारतीय टीम विजयी हुई ।
एक् दूसरा बडा कारण जिसको नजरअंदाज कर दिया गया या फिर खेल राजनीति के चलते श्रेय देना ही उचित नही समझा वह् था वरिष्ठ खिलाडियों का योगदान । सचिन, सहवाग, युवराज , गौतम गंभीर, मुनाफपटेल, हरभजन व जहीर खान जैसे वरिष्ठ खिलाडियों का बहुत अच्छा प्रदर्शन रहा था । युवराज सिंह को तो " प्लेयर आफ द टुर्नामंट " होने का सम्मांन भी मिला था । आज इस वर्ल्ड कप मे इनमें से कोई भी खिलाडी टीम मे सम्मलित नही है ।
अब यदि 2015 के इस खेल महाकुंभ के लिए चुने गये 15 खिलाडियों पर नजर डालें तो सभी युवा चेहरे ही दिखाई देते हैं सिवाय धोनी के । इस दल मे  कोहली, शेखर धवन, रोहित शर्मा, रहाने, रिध्दिमान साह, बिन्नी, भुवनेश्वर सिंह, उमेश यादव, अमित मिश्रा व मुरली विजय जैसे युवा चेहरे हैं । अभी हाल मे आष्ट्रेलिया व इग्लैंड मे इन खिलाडियों का शर्मनाक प्रदर्शन किसी से छिपा नहीं है । इस युवा टीम को एक भी जीत नसीब नही हुई । यहां तक कि त्रिकोणीय सीरीज मे यह फाइनल तक न पहुंच सके । टेस्ट टीम के रूप मे तो यह युवा भारतीय टीम अपनी चमक पहले ही खो चुकी है ।
भारतीय गेंदबाजी और बल्लेबाजी की धार को परखने  का प्रयास करें तो यहां भी निराशा ही दिखती है । इस भारतीय टीम मे एक भी मैच जिताऊ गेंदबाज नही दिखाई देता । गंभीरता इस बात से ही समझ मे आ जाती है कि आज एक दिनी प्रारूप मे दुनिया के टाप दस गेंदबाजों  मे एक भी भारतीय गेंदबाज शामिल नही है । जब कि पाकिस्तान के सईद अजमल, बांग्ला देश के शाकिब अली हसन दस गेंदबाजों मे शामिल हैं । ईशांत शर्मा, भुवनेश्वर कुमार व उमेश यादव जिन पर तेज गेंदबाजी का दारोमदार रहेगा, बेरंग नजर आ रहे हैं । महत्वपूर्ण आखिरी ओवरों के लिए जहीर खान जैसा गेंदबाज टीम मे नही दिखाई देता । रविन्द्र जडेजा व अश्वनि आष्ट्रेलिया - न्यूजीलैंड की तेज पिचों मे कोई चमत्कार कर सकेंगे, संभव नही लगता ।
अब रही बल्लेबाजी की बात तो अपनी मजबूत बल्लेबाजी के लिए जाने जानी वाली भारतीय टीम अब इस पहलू से भी कमजोर दिखाई देने लगी है । एक दिनी प्रारूप मे विराट कोहली के अलावा किसी भी बल्लेबाज का प्रदर्शन विश्वसनीय नही है । दवाब मे भारतीय मजबूत बल्लेबाजी अब ताश के पत्तों की तरह बिखर जाती है ।
खेल के इस प्रारूप मे हरफनमौला खिलाडियों का विशेष महत्व रहता है । इस द्र्ष्टि से भी भारतीय टीम बेहद गरीब नजर आती है । टाप दस मे सिर्फ रविन्द्र जडेजा को स्थान मिला है जबकि आष्ट्रेलिया , पाकिस्तान व श्रीलंका प्र्त्येक के दो दो खिलाडी इस सूची मे शामिल हैं । गौरतलब है कि हरफनमौना खिलाडी निर्णायक भूमिका अदा करते हैं ।
यानी कुल मिला कर इस क्रिकेट महाकुंभ मे भारतीय चुनौती दमदार नजर नही आती । चमत्कारों के बादशाह धोनी कोई चमत्कार कर बैठे तो दीगर बात है । वैसे टीम को इस कमजोर स्थिति मे लाने का श्रेय भी धोनी को ही जाता है । दर-असल 2011 के वर्ल्ड कप के बाद  धोनी ने मानो प्रतिज्ञा ले ली हो कि 2015 वर्ल्ड कप को सीनियर विहीन करना है । उसमे वह सफल भी हुए । कम से कम युवराज सिंह, गौतम गंभीर, हरभजन व जहीर खान को तो शामिल किया ही जा सकता था । तब यह भारतीय टीम एक संतुलित टीम दिखाई देती । यह खिलाडी इतने बूढे भी नही हैं कि इस खेल कुंभ मे उनके हाथ पैर कांपते दिखाई देते । इनसे भी उम्र दराज खिलाडी दूसरी टीमों मे आज भी खेल रहे हैं । यह तो सिर्फ धोनी की जिद और अहम का नतीजा है ।
कुल मिला कर देखें तो बेशक् भारत पूल ' बी ' मे आयरलैंड, वेस्ट इंडीज, जिम्वाबे व अरब अमीरात जैसी कमजोर टीमों को हरा कर दूसरे चक्र मे पहुंच जाए लेकिन जब मुकाबला पूल ' ए ' की आष्ट्रेलिया ,इंग्लैड व न्यूजीलैंड् जैसी टीमों से होगा तो अंतिम चार मे पहुंचने का सफर बेहद कठिन होगा । वैसे भारतीय टीम की पहली  परीक्षा ही 15 फरबरी को एडिलेट मे होगी जहां उसे पाकिस्तान से खेलना होगा ।
29 मार्च को मेलबोर्न क्रिकेट ग्राउंड मे होने वाले फाइनल मैच की एक टीम भारत की होगी या नही, यह तो समय ही बताऐगा लेकिन सिर्फ युवा और अनुभवहीन खिलाडियों के बल पर यहां तक पहुंचने का सफर कठिन जरूर दिखाई दे रहा है ।